• NainitalTimes

कुमाऊँ यूनिवर्सिटी में परीक्षा को लेकर दो दिन से हो रहे हंगामें के बाद छात्रों की मांगे हुई पूरी

अंतिम सेमेस्टर की परीक्षा दस सितम्बर व प्रथम सेमेस्टर की चार अक्टूबर को होगी पहली परीक्षा

नैनीताल ::- कुमाऊं विश्वविद्यालय में दो दिन से हो रहें हंगामें के बाद छात्रों की मांगो कों पूरा कर दिया गया है। जहाँ एक और एबीवीपी के नेताओ ने कुलपति का घेराव करके परीक्षा अक्टूबर में करने की माँग की जिसके बाद कुलपति प्रो.एन के जोशी ने नोटिस जारी करके परीक्षा की तारीख में बदलाव कर दिया था।

वही डी एस बी परिसर के फाइनल सेमेस्टर के छात्रों ने मंगलवार की शाम से ही प्रशनिक भवन में अनिश्चितकालीन धरना प्रदर्शन जारी कर दिया गया था। छात्रों की माँग यह थी की परीक्षा सितम्बर में ही होने चाहिए जिससे कई विद्यार्थियों का भविष्य का सवाल था। जिसकी वजह से विश्वविद्यालय द्वारा छात्रों कों दो दिन समय दिया गया था।


दोनों गुटों को देखते हुए बृहस्पतिवार कों आकस्मिक बैठक करने के बाद कुमाऊं विश्वविद्यालय ने छात्रों के हित में यह निर्णय लिया गया की स्नातक/स्नातकोत्तर अंतिम सेमेस्टर एवं स्नातक अंतिम वर्ष की परीक्षायें दस सितम्बर से शुरू होगी। वही

स्नातक प्रथम वर्ष की परीक्षायें चार अक्टूबर से आयोजित की जायेगी।


कोविड 19 की विषम परिस्थितियों एवं विलम्ब से चल रहे शैक्षणिक सत्र के नियमन को ध्यान में रखते हुए कुलपति प्रो. एन के जोशी की अध्यक्षता में आयोजित विशेष बैठक में निर्णय लिया गया कि नियमित एवं व्यावसायिक पाठ्यक्रमों के स्नातक/स्नातकोत्तर अंतरिम सम सेमेस्टर के परीक्षाफल विश्वविद्यालय द्वारा मानकों के आधार पर घोषित किये जायेंगे।


बैठक में विलम्ब से चल रहे शैक्षणिक सत्र के नियमन को ध्यान में रखते हुए व्यापक छात्र हित को देखते हुए निर्णय लिया गया कि स्नातक/स्नातकोत्तर अंतिम सेमेस्टर एवं स्नातक अंतिम वर्ष की परीक्षायें जो पूर्व में एक सितम्बर से प्रायोजित थी अब 10 सितम्बर से आयोजित की जायेगी।


विश्वविद्यालय द्वारा परीक्षाफल घोषित किये जाने की प्रतीक्षा किये बिना सम्बद्ध महाविद्यालयों / संस्थाओं में अंतरिम विषम सेमेस्टर की कक्षाएं 10 सितम्बर से ऑफलाइन/ऑनलाइन/ ब्लेंडेड मोड पर आरम्भ की जायेगी।


बैठक में यह भी निर्णय लिया गया कि ऐसे पाठ्यक्रम जो किसी नियामक संस्था के नियमों से संचालित होते हैं ऐसे समस्त पाठ्यक्रमों की परीक्षाओं एवं परीक्षाफल के निर्धारण हेतु नियामक संस्था के नियम ही प्रभावी होंगे।


धरने में बैठे फाइनल सेमेस्टर के छात्र नेता फैसल सलमानी,यश चौधरी,अक्षत कौशिक,मोहित,लोकेश,गोपाल सिंह सिजवाली,विपुल पाण्डेय कुमाऊँ विश्विद्यालय का धन्यवाद दिया है।

166 views0 comments