• NainitalTimes

हाईकोर्ट से मिली सरकार को बड़ी राहत



चारधाम यात्रा में अनलिमिटेड श्रद्धालुओं कर सकेंगे यात्रा
चारधाम में श्रद्धालुओं की संख्या को बढ़ाये जाने को लेकर सरकार की ओर से दायर शपथपत्र पर सुनवाई।
सरकार ने कोर्ट से अपने पूर्व के आदेश में संसोधन या वापस लेने का किया था आग्रह
जिससे कि वहाँ पहुँच रहे श्रद्धालुओं को आसानी से दर्शन हो सके


नैनीताल : उत्तराखंड हाइकोर्ट ने चारधाम यात्रा में सुनवाई की। मुख्य न्यायाधीश की अध्यक्षता वाली खण्डपीठ ने मामले को सुनने के बाद चारधाम यात्रा में असीमित संख्या दर्शन करने की अनुमति दे दी है। साथ मे कोर्ट ने यह भी कहा है कि सभी श्रद्धालू कोविड के नियमो का पूर्ण रूप से पालन करेंगे। कोविड के नियमो का पालन कराने की जिम्मेदारी प्रशाशन की होगी और डीएलएसए इसकी रिपोर्ट कोर्ट में पेश करेंगे। कोर्ट ने अपने आदेश में यह भी कहा है कि चारधाम में मेडिकल की सुविधा और बढ़ाई जाय, इमरजेंसी केसों के लिए चॉपर की व्यवस्था की जाय उसकी जानकारी के लिए मोबाइल नम्बर बेबसाइट पर उपलब्ध कराया जाय। मामले की अगली सुनवाई 17 नवम्बर की तिथि नियत की है।

आपको बता दे सरकार की तरफ से शपथपत्र पेश कर कहा गया है कि कोर्ट द्वारा पूर्व में दिए गए निर्णय को संसोधन किया जाय । माधिवक्ता द्वारा सरकार का पक्ष रखते हुए कहा कि चारधाम यात्रा करने के लिए कोविड को देखते हुए कोर्ट ने पूर्व में श्रद्धालुओं की संख्या निर्धारित कर दी थी। लेकिन वर्तमान समय मे लप्रदेश में कोविड के केस ना के बराबर आ रहे है इसलिए चारधाम यात्रा करने के लिए श्रद्धालुओं की निर्धारित संख्या के आदेश में संसोधन किया जाय । महाअधिवक्ता द्वारा कोर्ट के सम्मुख यह भी कहा कि धराधाम यात्रा समाप्त होने में तीन सप्ताह से कम का समय बचा हुआ है इसलिए जितने भी श्रद्धालू वहाँ दर्शन के लिए आ रहे है उन सबको दर्शन करने की अनुमति दी जाय। जो श्रद्धालु ऑन लाइन दर्शन करने हेतु रजिस्ट्रेशन करा रहे है वे नही आ रहे है जिसके कारण वहाँ के स्थानीय लोगो पर रोजी रोटी का खतरा उत्तपन्न हो रहा है। सरकार को कोर्ट ने पूर्व में दिए गए दिशा निर्देशों का पालन करने का हर सम्भव प्रयास किया जा रहा । चारधाम यात्रा में सभी सुविधाओं को उपलब्ध करा दिया गया। सरकार की तरफ से यह भी कहा गया है कि चारधाम यात्रा करने के लिए श्रद्धालुओं की निर्धारित संख्या पर से रोक हटाई जाय या फिर श्रद्धालुओं की संख्या तीन से चार हजार प्रतिदिन किया जाय। सरकार की तरफ से आज यह भी कहा गया कि बालाजी व सोमनाथ में प्रतिदिन 28 हजार व 10 हजार श्रद्धालु दर्शन कर रहे है। राज्य व केंद्र सरकार ने स्कूल मॉल, कालेज, सिनेमा सब खोल दिये गए है इसलिए चारधाम में श्रद्धालुओं की संख्या को भी बढ़ाया जाए।मामले की सुनवाई मुख्य न्यायधीश आरएस चौहान व न्यायमुर्ति आलोक कुमार वर्मा की खण्डपीठ में हुई। याचिकर्ता के अधिवक्ता ने कहा कि सरकार ने चारधाम में सुविधाओं के बारे में क्या क्या क्या सुविधाएं उपलब्ध है उसकी जानकारी पोर्टल में नही डाली है सिवा एक एटीएम के। उसको भी राज्य अपने बेबसाइट में अपलोड करें ताकि दर्शन करने वाले लोगो को परेशानियों का सामना न करना पड़े। पूर्व में कोर्ट ने चारधाम यात्रा करने के लिए प्रत्येक दिन केदारनाथ धाम में 800 , बद्रीनाथ धाम में 1000, गंगोत्रि में 600, यमनोत्री धाम में कुल 400 श्रद्धालुओ को जाने की अनुमति दी थी।

17 views0 comments